Tuesday, September 11, 2018

Friday, August 31, 2018

Change is possible with Hope, Honor and Human Dignity : Acceptance speech of Lenin Raghuvanshi


Distinguished Prof. Arindam Chaudhuri ji and Power Brand,

“It is a landmark honor for me, my colleagues, think tanks and advisors at the Peoples’ Vigilance Committee on Human Rights (PVCHR), partner organizations especially Child Right and You (CRY),Global Fund Children(GFC)–USA, FK-Norway, INSEC-Nepal, IRCT (International Rehabilitation Council of Torture Victims), FORUM Asia, Tata Trusts, Indo-German Society of Remscheid and associates, Ms. Helma Ritscher from Germany, Shruti Nagvanshi of Varanasi and Ms. Parul Sharma of Sweden to receive the Bharatiya Manavata Vikas Puraskar fighting for the dignity of the poor, marginalized and the “Untouchables” of India. Thanks a lot to distinguished Prof. Arindam Chaudhuri ji and Power Brand.

 The Secretary General of the Council of Europe Thorbjørn Jagland portrays the authentic picture of marginalized, “The poor and marginalized are ignored by political parties and the media. When they are victims of crime they hesitate to report it because they do not trust the police or courts. Corruption is widespread. Poor people are forced to pay for protection and services which, according to human rights law, should be free. The economic crisis only makes things worse, providing an excuse for politicians to blame the victims rather than help them.”

The main problems facing the India emerge from two things: the implementation of a ‘culture of impunity’, which is a shared belief that few can act without being accountable for their actions, at the social, economic and political level and the cognitive problem in the context of market democracy and economic globalization. This explanation reveals how the combination of those two factors – cognitive and contextual – allow the rise of a Neo-Fascism state – an authoritarian state, which wants to make one country with one nation – and the implementation of aggressive Neo-Liberal capitalism – which perpetuate social and economic injustice.

Thereafter, we propose a way to correct and change this situation by calling for the creation of a ‘Neo-Dalit’ movement – combining Shudras and ati-Shudras from all regions, which would formulate popular movement against the ‘culture of impunity’ through mobilization of opinion among leaders from all communities.The Neo-Dalit movement is a sign of hope, honor and human dignity for the most marginalized people facing discrimination based on race, caste, religion and gender. The Nelson Mandela model is the path for PVCHR’s Neo- Dalit movement to bring unity of different communities against the caste system, feudalism, communal-Fascism and Neo-Liberalism, through reconciliation for justice and human dignity against the culture of impunity based on silence. It promises to contribute, in posterity, to the pluralistic democracy in the world.

The multifaceted problems of our country are interconnected. In order to understand and solve these, we must view the dire problem in totality, not in isolation. We need a comprehensive multi-layer and multi-dimensional approach that considers economic, cultural, political and social factors. The People’s Vigilance Committee on Human Rights (PVCHR) and its partners are actively attempting to fill this opportunity space by courting constructive dialogue with others, all stripes, spots and ideological leanings. Focusing on the diversity of caste experience, rather than being counter-intuitive to movement goals of creating Dalit self-esteem represents a primary step toward creating lasting structural change in the process of strengthening Dalit self-esteem.

 There are a lot of best practices based on innovation, resilience, cost effectiveness and participation of children and another target group. Elimination of the culture of silence, fear and phobia of organized violence and torture are the predominant factors of resilience to inculcate social transformation. It contributes in poverty elimination. The stories of Sarai and Sakara villages are the classical examples of how change happens. The success of Sarai village achieved by the people of Sarai is creating waves and resilience in the struggle against poverty, injustice, caste system and torture and organized violence, as a slogan: ‘You Can!’ Government of India needs to implement learning of grass roots level for quality, social justice and human welfare.

“Rabindranath Tagore, a Bengali polymath who reshaped Bengali literature and music in the late 19th and early 20th centuries and recipient of Nobel Prize in Literature, in 1913, rightly described a value for India in his follows poem in Gitanjali:

“Where the mind is without fear
and the head is held high;
Where knowledge is free;
Where the world has not been
broken up into fragments
by narrow domestic walls; …
Where the clear stream of reason
has not lost its way into the
dreary desert sand of dead habit; …
Into that heaven of freedom,
My Father, let my country awake.

“Martin Luther King rightly says, ‘The urgency of the hour calls for leaders of wise judgment and sound integrity – leaders not in love with money, but in love with justice; leaders not in love with publicity, but in love with humanity; leaders who can subject their particular egos to the greatness of the cause.’

“India needs a better government that protects its own people and brings them together to build a strong nation-state, and to give them dignity and honor. “Hence, in all humbleness and humility, I accept the Bharatiya Manavata Vikas Puraskaras a step toward a different India, grounded on the values of justice, freedom and integrity.

“Thank you.”

http://www.internationalnewsandviews.com/shabana-azmi-awarded-the-bharatiya-manavata-vikas-puraskar-2018/#sthash.zL9c1vMx.dpbs

Shabana azmi awarded the bharatiya manavata vikas puraskar 2018

Published on August 31, 2018 by    ·   No Comments
INVC NEWS
New Delhi ,
Daily Indian Media recognized the contribution by 13 Indian Stalwarts from various spheres of Indian Life like Politics, Business, Academics and Entertainment, yesterday at a glittering Awards Ceremony in New Delhi. Those recognized for their contribution to society and championing the cause of equity, humanity, social justice and human welfare include Shabana Azmi, Nandita Das, Yuvraj Singh, Ashutosh, Bibek Debroy, Uma Tuli, Flavia Agnes, Pramila Nesargi, Anita Ahuja, Lenin Raghuvanshi, Bezwada Wilson, Atul Satija and Pravin Patkar.
Power Brands: Bharatiya Manavata Vikas Puraskar (BMVP) is a distinctive initiative, a unique stage of some of the most powerful and humane minds from across the nation. BMVP is a platform created for leaders from the sphere of Politics, Business, Academics and Entertainment who have contributed towards enhancing the cause of human development in India.

These 13 national faces from various walks of life who were awarded with BMVP have built a brand of faith and hope through their conviction and actions while remaining committed to bring about a change in the society and championing the cause of equity, humanity, social justice and human welfare. In attendance to support, believe in and cherish change the nation needs, and its prime agents, would be the most luminous lights of this country including- Entrepreneurs, NGOs, CEOs, Politicians, Academicians, Media Giants, Sports and Film personalities, et al from around the nation.

#NeoDalit #Dalit #PVCHR #LeninRaghuvanshi

Monday, August 27, 2018

मेरा हक़ व मेरी भागीदारी” my rights and my participation




Dear Friends,

Greetings from PVCHR

Savitri Bai Phule Mahila Panchayat (SWF) a platform for the women rights of Peoples’ Vigilance Committee on Human Rights (PVCHR)/Jan Mitra Nyas announced for the campaign मेरा हक़ व मेरी भागीदारी” my rights and my participation. Without the participation of the women there can be no sustainable stand against injustice, exploitation, atrocity, inhuman acts and communalism

During the campaign SWF will organize folk school and meeting with adolescence girls, women and men to about laws, act and guidelines related to women and girl’s rights, health -hygiene etc in Northern India. The campaign will build their capacities and will create a platform for their unity on base of reconciliation, democracy, secularism and non violence against politics of division exploitation and hatred.

You can be a part of the campaign by organizing meeting/folk school in your respective areas. You can contact us at pvchr.india@gmail.com, shruti@pvchr.asia, shabana@pvchr.asia
Thanking You

Sincerely Yours

Shruti Nagvanshi
Convenor
Savitiri Bai Phule Women Forum

Shirin Shabana Khan
Campaign Co-ordinator

Please visit following URL:
SWF please visit: www.dalitwomen.blogspot.com
About Women Folk School on Neo Dalit:  



Thursday, August 16, 2018

Neo Dalit Convention: a platform for peace based on justice,hope and dignity




 9th August, 2018, Varanasi. On the eve of August Kranti Day, International Adivasi (tribal) Day and birth day of Late Sri Sudhindra Shukla (a veteran journalist and trade union leader), against Caste system, patriarchy, communal fascism and neoliberalism- to celebrate idea of justice, equality, fraternity and pluralism- Neo-Dalit Convention was organised.
Program begun with Ashish Mishra’s and his friends singing Kabir vani; followed by welcoming and giving guest to gift; such as, sapling, a copy of Indian Constitution and Varanasi’s Gamcha (a kind of cotton towel).Welcoming speech was delivered by the president of PVCHR, Dr.Mahendra Pratap, who is also connected to UP history Congress.
Dr. Lenin Raghuvanshi, CEO of the People’s Vigilance Committee on Human Rights(PVCHR), illustrated goal of the event, and has stressed that  Convention meant to unite the broken people of all Caste and religion; and to fight against Caste system, communal fascism, politics centred on religion, patriarchal society, and neo-liberalism. He further said, that Convention is an attempt to promote justice, fraternity and pluralism in highly unequal society; and would pave the way for an egalitarian society. He has stressed that by adopting the ideals of Nelson Mandela, Neo-Dalit movement can achieve progress and age old problems can be solved.


On this occasion, for their commendable work in the area of human rights, Ms. Jagriti Rahi (Varanasi), Mr. Uday Kumar (Bihar) and Mr. Pradeep Garg from Uttarakhand, were awarded Jan Mitra award. In addition, a book, ‘Conflict of Freedom of Expression and Religion’ by social scientist Mr. Amit Singh, and another book, First Japan trip by Kashi Ram Ji, by senior writer and thinker, Mr. Moolchand Sonkar, was launched.
Senior journalist and founder of Media Vigil, Mr. Pankaj Srivastava has advocated elimination of anger. He said that agents of fascism have captured Ram, Shiv, Parvati. He suggested that rulers and politician must read the character of Sri Ram. He explained how politics has changed the nature of god from protector to the one who are full of rage and anger; he mentioned that since our childhood we have been witnessing our god living in harmony on Himalaya with other god such as Shiv living with Parvati, Ganesh, Kartikaya, Nag, Nandi, Mouse and peacock as concept of co-existence. This characteristic could be seen in Hanuman as well. These gods supposed to protect people, not to be angry.

Intellectual and professor at Hindu college, Prof. Ratan Lal said Caste system can never be eliminated. Brahmanism would never end. These have originated from composite culture. Only way to end the Caste system is possible if Brahman themselves organize anti-Caste movement.  
Sri Jignesh Mevani, Member of Legislative assembly, Gujrat State assembly and Dalit activist, has suggested Uttar Pradesh does not need ideology of BJP, but of Kabir, Raidas and Buddha. He has stressed that Constitution can be well protected if people of India understand the ideals of Kabir, Raidas and Buddha. Taking dig at ruling party, he said that their work is to break our unity and our duty is to spread love. He has stressed that hour of need is be an united opposition. Mevani further said, Mathma Gandhi is the father of nation and Dr. Ambedkar is the father of modern India.

 Senior journalist, television anchor, author and Ex-director Rajya shabha TV, Shri Urmilesh suggested that in order to fight against contemporary fascistic forces everyone needs to be united and we need to get over our personal differences. He mentioned recent election of Deputy Chairperson of Raja Shabha, in which NDA won and opposition lost even if they have claimed that they were in majority. He said that as election of 2019 is getting close, ruling party would play new trick. In this context, people have more responsibility since they have been fooled by jumlas since last four and half years. 
Senior social worker and chairperson of Congress Sevadal, Sri Lalji Desai lambasted those who have manuvadi mentality and practice inequality. He has stressed the necessity to struggle for equal access to education, right to food and employment. 


 Sri Nadeem Khan of United Against Hate, has said that justice shall prevail, not the revenge.
Many prominent people shared their views in this program including, Ms. Arpna (Gao Ke Log), Sri Ambrish Kuman Roy (Ex-MLA, Uttrakhand) Sri Vijay Pandey (Mumbai), Dr.Kafeel (Gorkhpur) Anoop Sharmik and Shruti Nagvanshi (Convenor, Savitri Ba Fule women forum).
This program was anchored by famous theatre, writer and poet, Vyomash Shukla. By the end of program, Dr.Arif Mohammad, member-Secretary of PVCHR governing board thanked everyone to make the event successful. Event was concluded with famous tribal dance by Ghasiya tribe. 
People from Uttar Pradesh, Bihar, Jkarkhand, Madhay Pradesh, Uttrakhand, Maharastra participated in large numbers.
 Links:

9 अगस्त, 2018 वाराणसी|  अगस्त क्रांति दिवस एवं अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस और स्व० श्री सुधीन्द्र शुक्ल के जन्म दिवस पर जातिवाद,पितृसत्ता, सांप्रदायिक फ़ासीवादी नवउदारवाद के खिलाफ न्याय, समता, बंधुत्व व बहुलतावाद के लिए “नवदलित सम्मेलन” का आयोजन कबीर के कर्मभूमि, मूलगादी, कबीर चौरा मठ में आयोजन किया गया|

कार्यक्रम में आशीष मिश्र व उनके साथियों ने कबीर वाणी गाकर कार्यक्रम का शुरुआत किया, अतिथियों के स्वागत में उन्हें भेंट स्वरुप पौधा,संविधान की पुस्तक और बनारसी गमछा दिए गया| आचार्य मृत्युंजय त्रिपाठी व वल्लभाचार्य पाण्डेय कार्यक्रम के अतिथि श्री जिग्नेश मेवनी को संविधान की पुस्तक, पौधा व बनारसी गमछा देकर स्वागत किया| पीवीसीएचआर के अध्यक्ष व यूपी हिस्ट्री कांग्रेस से सबद्ध डा0 महेंद्र प्रताप ने स्वागत भाषण दिया |

रूपरेखा व प्रस्तावना रखते हुए मानवाधिकार जननिगरानी समिति के सीईओ डा0 लेनिन रघुवंशी ने इस सम्मेलन के मुख्य उद्देश्य को बताते हुए कहा कि सभी जाति और धर्मो के टूटे हुए लोगो की एकता बनाकर उन्हें एकजुट करने के साथ ही जातिवादी साम्प्रदायिक फ़ासीवादी, धर्म की राजनीति, पितृसत्तात्मक, नवउदारवाद के खिलाफ बंधुत्व व बहुलतावाद व समता के लिए न्याय स्थापित करने के लिए यह एक प्रयास है| जिससे कि समाज में चली आ रही विषमताओ को समाप्त कर एक समतामूलक समाज की स्थापना की जा सके | उन्होंने कहा कि नेल्सन मंडेला को अपना कर नवदलित आन्दोलन को आगे बढ़ा कर सदियों पुरानी समस्या को ख़तम किया जा रहा है|

इस अवसर पर मानवाधिकार के क्षेत्र में उत्कृष्ठ कार्य करने के लिए सुश्री जागृति राही वाराणसी से, श्री उदय कुमार बिहार से और श्री प्रदीप गर्ग उत्तराखण्ड से को जनमित्र सम्मान से सम्मानित किया गया | समाज वैज्ञानिक श्री. अमित सिंह द्वारा लिखी किताब Conflict of Freedom of expression & religion और वरिष्ठ साहित्यकार व चिन्तक मूलचंद सोनकर द्वारा लिखित किताब कांशी राम जी प्रथम जापान यात्रा का लोकार्पण किया गया |

वरिष्ठ पत्रकार और मीडिया विजिल के संस्थापक श्री पंकज श्रीवास्तव ने क्रोध को खत्म करने की वकालत की| कहा कि फ़ासीवादी ताकतों ने भगवन राम, शिव, देवी पार्वती सभी को तो छीन लिया है| इन सताधारियों ने मर्यादा पुरुषोत्तम राम का चरित्र पढ़े| हम बचपन में शिव का वह स्वरुप देखते थे की हिमालय पर्वत पर शिव, पार्वती, गणेश, कार्तिकेय, नाग, मोर, नंदी, चूहा सब एक साथ दिखते थे,इन्होने अब त्रिशूल लिए भगवान शंकर के तांडव करते दिखा कर यह बता रहे है कि वह तो हमेशा क्रोधित रहते है| ऐसे ही गुस्से वाले हनुमान को दर्शा रहे है| अरे ये भगवन तो अभयदान देने वाले है क्रोध दिखने वाले नहीं|

बुद्धिजीवी व हिन्दू कॉलेज के प्रोo रतन लाल ने कहा जाति का खत्म नहीं हो सकता| ब्राह्मणवाद कभी नहीं खत्म हो सकता है| ये कम्पोजिट कल्चर की देन है| इसे खत्म करने का एक रास्ता है|, ब्राह्मण खुद चलाए जाति विरोधी आन्दोलन|

गुजरात विधानसभा के विधायक और दलित एक्टिविस्ट श्री जिग्नेश मेवनी ने कहा की यूपी को भाजपा की विचारधारा नहीं कबीर, रैदास और बुद्ध की विचारधारा चाहिए| यदि मुल्क के 125 करोड़ जनता सिर्फ इतना समझ ले तो कबीर, रैदास और बुद्ध का दर्शन और संविधान सब कुछ बच जायेगा| उनका काम है लोगो को तोडना और हम लोगो का काम है प्रेम फैलाना और लोगो को जोड़ना| उन्होंने कहा की मौजूदा परिदृश्य में विपक्ष की एकजुटता को अनिवार्य बताया और कहा कि भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी और आधुनिक भारत के राष्ट्पिता है डॉ आंबेडकर|

वरिष्ठ पत्रकार, टेलीविज़न, एंकर लेखक और पूर्व कार्यकारी निदेशक राज्यसभा टीवी श्री उर्मिलेश ने कहा कि मौजूदा फ़ासीवादी ताकतों से लड़ने के लिए सभी को एकजुट होना होगा| आपसी मतभेद भुलाने होने|  उन्होंने गुरुवार को राज्य सभा के उपसभापति के चुनाव का उल्लेख करते हुए कहा कि जिस राज्यसभा में विपक्ष के बहुमत का दावा किया जा रहा था वह भी एनडीए जीत गयी| विपक्ष हार गया तो ऐसे में ये 2019 के चुनाव आते - आते ये लोग फिर से कोई नया हथकंडा अपनाएंगे  ऐसे में विपक्ष से कही ज्यादा काम और कही ज्यादा जिम्मेदारी आम जनता की है, जो पीछे साढ़े चार साल से जुमलो के मकडजाल में फसती आ रही है|

वरिष्ठ समाजसेवी और कांग्रेस सेवादल के अध्यक्ष श्री लालजी देसाई ने कहा कि मन की बात वाली मनुवादी सोच वाले लोग उंच नीच की बात करते करते है जरुरत पड़ने पर गले लागा लेते है| हमें सभी को सामान शिक्षा, भोजन का अधिकार व रोजगार के लिए संघर्ष करना चाहिए| यूनाइटेड अगेंस्ट हेट के श्री नदीम खान ने कहा कि सवाल इन्साफ का होना चाहिए न कि बदले का |

डॉ कफील खान  ने कहा कि आज हमें हिन्दुतान में फिर भारत छोड़ो आन्दोलन चलाना पड़ेगा उनके खिलाफ जो  नफ़रत, दंगा, घृणा फैला रहे है|  मै छोटा था तो होली खेलता था, दुर्गा पूजा में जाता था | ईद व बकरीद में हम सब मिल जुलकर एक साथ सिवाई खाते थे| | आज ऐसा क्या हो गया है की लोग एक दुसरे जगह नफरत फैला रहे है| हमें अपना हिंदुस्तान वही चाहिए जहा हम लोग फिर से मिलकर अपना दुःख दर्द बाट सके| जहा फिर से उस्ताद बिस्मिल्लाह खान मंदिर के आँगन में फिर से शहनाई बजा सके|

श्रुति नागवंशी, संयोजिका सावित्री बा फूले ने कहा कि साम्प्रदायिक, फांसीवादी और जातिवादी दृष्टिकोण के कारण पैदा हुआ हिंसा और यातना का सीधा और सबसे बुरा प्रभाव महिलाओं व बच्चों पर पड़ता है । लेकिन हम उनका आंकलन नही कर पाते हैं कि, हम पीढ़ियों पीछे जा रहें हैं । परिस्थियां बेहद चुनौतीपुर्ण हैं पिछले चार वर्षो से जन हकों के कानूनों को कमजोर और योजनाओ को बंद किया जा रहा है । हमें संकीर्णतावादी विचारधारा से मुक्त होना होगा,   देश की पहली शिक्षिका सावित्री बाई फूले से हमें प्रेरणा लेना चाहिए यदि उन्होंने संकीर्णतावादी विचारधारा से लिया होता तो आज महिलाओं ने जो मुकाम हासिल किया उसमें अभी हम पीछे होते । तमाम विरोध अवरोध को झेलते हुए लड़कियों महिलाओं के लिए उन्होंने जो पहला स्कूल खोला उसमें बड़ी संख्या में ऊंची जाति की महिलाओं को भी शिक्षित किया । हमें किसी कि भी अंधभक्ति नही करना चाहिए चाहे वे गुरु हो, राजनेता हो, या फिर पति, पिता या समाज हो । हमें सिखाया जाता है कि यही हमारी किस्मत है हमें यही झेलना है , इस सोच बाहर आकर अपने विश्लेषणात्मक तर्को के आधारों पर निर्णय लेते हुए अपना मुस्तकबिल खुद बनाना चाहिए |

दलित एक्टिविस्ट अनूप श्रमिक ने उत्तर प्रदेश में दलितों की स्थिति रखते हुए कहा कि भारत में हमें सामाजिक आन्दोलन को एक मंच पर आकर लड़ना होगा| इधर चार साल से दो लाख दलित के मामले थाने में पंजीकृत है | 82% महिला उत्पीड़न बढ़ गये है बड़े बेटी पढे बेटी एक नाटक है |

इस कार्यक्रम में सुश्री अपर्णा (गाँव के लोग),  श्री अम्बरीश कुमार राय पूर्व विधायक- उत्तराखंड, मुंबई से श्री विजय पाण्डेय, डा. कफ़ील गोरखपुर से,  ने अपने अपने विचार रखे|

कार्यक्रम का सञ्चालन सुप्रसिद्ध रंगकर्मी, साहित्यकार और कवि व्योमेश शुक्ला ने किया | कार्यक्रम के अंत में मानवाधिकार जननिगरानी समिति के गवर्निंग बोर्ड सदस्य सचिव डा0 मोहम्मद आरिफ ने धन्यवाद ज्ञापन दिया | 

कार्यक्रम की समाप्ति प्रसिद्ध आदिवासी नृत्य कर्मा घसिया जनजाति द्वारा हुआ| इस सम्मलेन में उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलो सहित बिहार, झारखण्ड, उत्तराखण्ड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र आदि राज्यों से करीब हज़ारो की संख्या में लोग उपस्थित रहे |

#PVCHR #U4HUMANRIGHTS #NeoDalit #Dalit #JigneshMewani

Thursday, July 26, 2018

Urgent Appeal: उत्तर प्रदेश मे घर से बेघर कर, बच्चे, वृद्ध, महिला, और पुरुष को अमानवीय तरीके से मारने पीटने के सम्बन्ध मे


उत्तर प्रदेश मे सोनभद्र जिले के चुर्क थानान्तर्गत चुर्क बाजार का दक्खिन टोला मे वन विभाग की पुलिस द्वारा बिना नोटिस के घर गिराकर उन्हें घर से बेघर कर, बच्चे, वृद्ध, महिला, और पुरुष को अमानवीय तरीके से मारने पीटने के सम्बन्ध मे-

4 मई, 2018 को मानवाधिकार जननिगरानी समिति की प्रशिक्षित मनोसामाजिक कार्यकर्ता की टीम पीडितो को टेस्टीमोनियल थेरेपी द्वारा सम्बल और मनोसामाजिक सहायता देने पहुची|  इससे पहले समिति के सोनभद्र जिला प्रभारी घटना का फैक्ट- फाइंडिंग और मौका का जायजा लिया था| वही घटना के बाद 15 दिन तक विस्थापित लोग को सुशील त्रिपाठी जन मित्र शिक्षण केंद्र पर  अल्पकालिक आश्रय दिया गया|

तथ्य विवरण

सोनभद्र जिले मे मकान न० 291 वार्ड न० -5 पोस्ट चुर्क बाजार जिनकी जनसंख्या लगभग 200 के आस पास 35 घर के लोग कई पुश्तो से इस बंजर जमीन खाता संख्या 00387 पर अपना घर बनाकर निवासरत थे उन्होंने मेहनत मजदूरी से अपनी गृहस्थी बसा ली थी |
बिना नोटिस दिये अचानक 4 सितम्बर 2017 को वन विभाग की पुलिस इनकी बस्ती मे जे.सी.बी के साथ आई और आकर गैर -कानूनी तरीके से तोड़ फोड़ करने लगी जब इसका विरोध समुदाय के लोगो ने किया तो वन विभाग की पुलिस गाली गलौज करने व अभद्रता पर उतर गयी सबसे ज्यादा अफ़सोस की बात यह है की बूढ़े, बच्चे, महिलाये और पुरुष सभी को बुरी तरह से मारा पिटा गया और अभद्र व्यवहार किया गया| वे लोग अपने साथ सभी के घर से सामान तक उठा ले गये जब समुदाय के लोगो ने इसका विरोध किया तो लोगो के अन्दर दहशत पैदा करने के लिये कुछ लोगो को जेल भेज दिया|
जबकि बस्ती के पास बहुत सारे लोग है जो बंजर जमीन पर पुश्तो से दुकान, घर पर काबिज है पर पुलिस और वन विभाग से उनको नहीं हटाया| वहा रहने वाले सभी निवासियों का उसी पते का निवास प्रमाण पत्र, वोटर कार्ड सहित सभी दस्तावेज में वहीं का पता दर्ज है | कुछ लोगो का नाम कुटुंब रजिस्टर मे भी अंकित है |

पुलिस वालो ने घर से बेघर कर घनघोर जंगल की और खदेड़ दिया: ग्यास जान उम्र -52 वर्ष पुत्र श्री सजब निवासी- ग्राम- चुर्क बाजार, थाना- राबर्सगंज सोनभद्र का रहने वाला हूँ|  

4 सितम्बर, 2017 शाम को 13 थाना की पुलिस मेरे टोले मे आयी, मैंने सोचा की हो सकता है किसी मामले मे आये होगे गाँव मे जब बुलडोजर देखा तो मै चौक गया की ऐसी कौन सी बात है जो पुलिस वाले अपने साथ बुलडोजर भी लेकर आये है|

वो लोग आते ही तोड़ फोड़ शुरू कर दिये तब मैंने हिम्मत जुटाकर पूछा की साहब क्या बात है जो हम लोगो के मकान को आप बुलडोजर लगा कर क्यों गिरा रहे है इतना सुनते ही पुलिस वाले लाठी -डंडे से बेरहमी से मारने लगे और हमको उठाकर जमीन पर पटक दिये जिससे मेरे पीठ मे गिट्टी धस गया|  मै बहुत तेजी से चिल्लाया पर पुलिस वालो को जरा सा रहम नही आया मेरे ऊपर मै उस समय बहुत मजबूर था मै सिर्फ पुलिस का मार खाता रहा और चिल्लाता रहा|

पुलिस वाले बड़ी बेरहमी से मेरा घर बुलडोजर से तोड्वा दिये जिसमे घर का सारा सामान दब गया और जितना कीमती सामान था सब उठा ले गये और घर मे रखे हुये राशन को बाहर फेक दिये और मुर्गा का बच्चा व बकरी का बच्चा दबकर मर गया, मै पुलिस वालो का हाँथ पैर जोड़ता रहा पर पुलिस वालो को मेरे लिए कोई रहम नही आया, मेरा सब कुछ लुट गया हमे पुलिस वाले माँ बहन की भद्दी -भद्दी गाली देते हुये घसीटकर रोड पे ला दिये और रोड पे लाठी से मारने लगे मै उस समय हाँथ जोड़कर दुहाई देता रहा पर पुलिस वाले मुझ निहायत गरीब की बात एक न सुने मै व मेरे परिवार वहाँ से 10 किलोमीटर दूर घर से घनघोर जंगल मे चले गये पुलिस वाले सुबह का आये हुये थे शाम को 8 बजे गाँव से गये पर एक भी घर को नही छोड़ी पुलिस वालो ने सब घर बुलडोजर से गिरा कर शमशान बना दिये और वहाँ से हमे खदेड़ कर जंगली जानवर समझकर हमे जंगल मे हांक दिये घनघोर जंगल मे जाकर दर -दर भटक कर ठोकरे खा रहे है| जब पुरुआ हवा जब चलता है तो पुरे शरीर मे बहुत तेज दर्द होता है और हाँथ पैर कापने लगता है| जंगली जानवर से भी डर लगता है पर मेरी मजबूरी है की मै घनघोर जंगल मे रात दिन किसी तरह बिता रहा हूँ |

पुलिस वालों का खौफ इस तरह बैठ गया लोग काम पर जाना छोड़ दिए: सजब मेरा उम्र लगभग 60 वर्ष है मेरे  परिवार में चार लड़के तीन लड़कियां है मैं ग्राम चुर्क मकान न०-291 वार्ड न०-5 पोस्ट- चुर्क  बाज़ार जिला -सोंनभद्र का रहनें वाली  हूँ|  मैं आज भी बनी मजदूरी करके अपने बच्चों के सहयोग से परिवार चला रही हूँ |

पुलिस वालों ने भद्दी भद्दी गाली देते हुये  बोले  की यह जमींन यहाँ छोड़कर भाग जाओ पुलिस वालों की बात सुनकर हम सारे बस्ती के लोग उनके पैरों पर गिरकर दया की भीख मांगने लगे | पुश्तो से जिस जमींन पे अपने लहू पसीने से सींच कर जो घर बनवाई हम लोग कहा जायेंगे इतना कहते ही पुलिस वालों ने जबरदस्ती औरतों व बच्चियों का  हाथ पकड़ते हुए बेरहमी से घसीटते हुए घर से बाहर निकाल दिए|

उस समय हम लोग गुहार लगाते रहे सभी औरते बच्चे बिलखकर रो रहे थे | पुलिस वालो को उनके  आंसू पे भी रहम नही आया | वह बुलडोजर बुलवाकर पुरे घर को एक तरफ से वीरान करना शुरु कर दिये|यह देखकर हम लोगो का कलेजा बैठ रहा था | कई औरतों को चोट भी लगा व प्रसाशनिक विभाग को जरा सा रहम नही आया | हम लोग जो बनी मजदूरी करके जो अनाज बर्तन घर में रखे थे उसे भी उन लोगो ने तोड़ फोड़ दिया सारा अनाज बच्चों की किताबे व घर के और सामान सब कुछ बर्बाद कर दिया | मुझे भी चोट लगी मै भी दर्द से कराह रही थी फिर भी उनको मुझ पर  दया नही आयी |वहा से सांकल भठवा  टोला (जंगल) में परिवार ले कर गयी  वहा पुलिस वालों की खौफ  थी  वहाँ  भी हम लोगों को सिर छुपाने  की जगह नही मिल रही थी किसी तरह झुग्गी झोपडी बनाकर अपना जीवन गुजार रहे थे की वहाँ भी पुलिस वालों की लाठियों की कहंर टूट पड़ी| उनकी मार से मेरे अब्बा जौहर की मौत हो गयी | उससे हम लोग बिलकुल टूट गये|

पुलिस वालों का खौफ इस तरह बैठ गया लोग काम पर जाना छोड़ दिए पता नही हमारे जाने के बाद हमारे परिवार का क्या हाल होगा डर से रात में नींद  नही आती भूख नही लगता| पानी काफी दूर से लाना पड़ता |कभी कभी कभी बिना खाये सो जातें थे जब बच्चे भूख से कराहते थे तो आँख से आंसू निकल पड़ता था उनके दर्द को बर्दास्त नही कर पाते थे यहाँ  तक की हम लोग कोई सामान बाज़ार से भी नही ले पाते थे | पुलिस वालों का बहुत बड़ा डर था कि कही हम लोगों पे फर्जी केस  लगाकर थानें में बंद न कर दे आज भी हम लोग असुरक्षित है| हमारे पास रहने को घर नही है | हम लोग किस तरह अपने परिवार के साथ  सुनसान जंगल व खतरनाक जानवरों के बीच अपना जीवन बिता रहें हैं| यह खुदा ही जानता है |

ताबड़ तोड़ पुलिस वालो ने लाठी डंडा से मारते हुये घर से बेघर कर घनघोर जंगल की ओर खदेड़ा  चुर्क गाँव के 35 घरो मे पुलिस के खौफ से लोग घर से बेघर हो गये साथ ही इमाम पिता मोहम्मद को भी पुलिस वालो ने तोड़ फोड़ करते हुये भद्दी -भद्दी गालिया देते हुये लाठी डंडे से इतना बेरहमी से मारे इमाम का दाया हाँथ टूट गया व घुटना मे भी बहुत चोट आ गया पुलिस की मार से आज तक इमाम अपाहिज हो गया घर से बेघर होने का दर्द व शरीर से अपाहिज होने का दर्द लोग सहने मे अक्षम हो गये इस समय अपने परिवार बच्चो को लेकर लोग खुले आसमान के निचे दर से बेदर भटक रहे है |यहा तक की प्रशासन ने इतनी हदे पार कर दी लोगो के पास मरहम तक नही था लगाने के लिये कई दिनों तक लोग भूखे प्यासे मरते रहे कई बच्चे भूखे मर गये यहा तक की लोग पानी भी पिने के लिये तडपते है आज समुदाय के लोग इस हालत मे जी रहे है प्रसाशन ने अपनी बड़ी चालाकी से साजिस चुर्क बस्ती के लिये की है इस तरह लोगो को घर से बेघर कर मारने के लिये ताकि लोग तडप-तडप कर मर जाये और प्रशासन बेदाग बच जाये इस घटना से करीब 35 घर प्रभावित हुये है

कृपया निम्नवत पते पर निम्नवत माँगो पर पत्र प्रेषित करे:
1 मामले का उच्च स्तरीय जाच स्वतंत्र एजेंसी या CBCID द्वारा करवाया जाय
2. पीड़ित परिवार को मुआवजा एवं विस्थापित परिवार का पुनर्वासन किया जाय

पता:
श्रीमान् अध्यक्ष
राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग,
मानव अधिकार भवन,
ब्लाक-सी.जी.पी.ओ. काम्पलेक्सआई.एन.ए.
नई दिल्ली -110023

मुख्यमंत्री
उत्तरप्रदेश सरकार
लाल बहादुर शास्त्री भवन
लखनऊ -226001

पुलिस महानिदेशक
1 बी० एन० लाहिरी मार्ग, तिलक मार्ग
लखनऊ -226001

PVCHR urgent appeal desk (pvchr.india@gmail.com)
#PVCHR #displacement #u4humanrights